विराट कोहली की अनसुनी मोटिवेशनल कहानी

2
98

विराट कोहली की अनसुनी मोटिवेशनल कहानी 1

आज आम इंसान भी एक अद्भुत जीवन जी सकते है अगर उसके पास एक अच्छा लक्ष्य और उसके कुछ सिद्धांत हो । एक साधारण सा लॉजिक है कि जब एक मछुवारे का बेटा डॉक्टर ए पी जे अब्दुल कलाम बन सकते है , एक चाय बेचने वाला हमारे देश के प्रधानमंत्री बन सकते है । आज एक गली में खेलने वाले सचिन तेंदुलकर बन सकता हैं । आज गाँव मे खेलने वाली लड़की सानिया मिर्जा बन सकती हैं तो कही न कही हमे एक बात तो जरूर ही पता है कि कुछ इनके नियम और सिद्धांत रहे होंगे जिनके रास्ते पे चलकर इन्होंने सफलता हासिल की आज मै ऐसे ही एक शख्स के बारे में चर्चा
करूंगा ।
एक 18 साल का लड़का था जो दिल्ली में रणजी ट्राफी खेल रहा था और दिल्ली और कर्नाटक के बीच टेस्ट मैच चल रहा था । दिल्ली का स्कोर बहुत ही कम था और बहुत ही कम अवसर थे कि वो उस मैच को जीत पाते ।उसी मैच में दिल्ली की तरह से एक नवयुवक बैट्समैन बैटिंग करने के लिए आता हैं पहले दिन वह 40 रन बनाता हैं और पवेलियन लौटते समय वह यह सोचता हैं कि अगर मैने कल अछ्ह रन नही बनाये तो दिल्ली यह मैच हार जाएगी उसके कुछ समय पश्चात ही उसे एक बुरी खबर मिलती हैं वह बुरी खबर यह होती हैं कि उसके पिताजी की मृत्यु हो गयी हैं हम होते तो यह खबर सुनकर अंदर से टूट गए होते पर इस लड़के ने कुछ अलग निर्णय लिया उसने यह सोचा की मै अपने जीवन के सबसे दुख से परिपूर्ण दिन हो अपने जीवन का सबसे बड़ा मोटिवेशन बनाऊंगा । वह घर नही जाता हैं अगली सुबह वह पिच पर उतरता हैं और बहुत अच्छी बैटिंग करता हैं और बैटिंग करते हुए वह 90 रन पर आउट होता हैं और आउट होने के बाद वह आसमान की तरफ देखता हैं और कहता हैं पिताजी यह आपके लिए है जब पर पवेलियन के लिए बढ़ता हैं तो सभी खिलाड़ियों के आंखों में आँशु थे और सबके अंदर
एक सोच थी कि एक इंसान अपनी लाइफ के लिए कितनी हद तक डेडिकेटेड हैं आज मै जिस इंसान की बात कर रहा हु उसे इंडियन क्रिकेट टीम में स्टार तो नही कहूंगा पर सबसे बड़ा सुपरस्टार कहूंगा जिसका नाम विराट कोहली हैं
इन सब चीजों से एक ही चीज स्पस्ट होती हैं कि आपके आपके इरादे मजबूत है तो चाहे जितनी कठनाइया क्यों न हो रास्ते अपने आप निकलते हैं अगर इरादे मजबूत नही तो सिर्फ़ बहाने बनते है और झूठी कहानियां ।।
ऐसे ही रोचक मोटिवेशन कहानियों को पढ़ने के लिए आप हमारी साइट में फिर से जरूर आये धन्यवाद ।।

2 COMMENTS

    • Ravi जी बैकलिंक के कई तरीके होते हैं, कमेंट के जरिये, गेस्ट पोस्ट के जरिये। पर केवल बैकलिंक मैटर नही करता, क्वालिटी वाली एक बैकलिंक हजारों लो बैकलिंक से अच्छी होती हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here