Best स्वच्छ भारत अभियान पर निबंध: Swachh Bharat Abhiyan Essay in Hindi

Swachh Bharat Abhiyan Essay in Hindi, Essay on Swachh Bharat Abhiyan in Hindi, Swachh Bharat Abhiyan in Hindi, Essay on Swachh Bharat in Hindi
स्वच्छ भारत अभियान पर निबंध

Swachh Bharat Abhiyan Essay in Hindi, Essay on Swachh Bharat Abhiyan in Hindi, Swachh Bharat Abhiyan in Hindi, Essay on Swachh Bharat in Hindi.

आज के इस आर्टिकल में हम आपको स्वच्छ भारत अभियान पर निबंध हिंदी में प्रोवाइड कर रहे हैं। यदि आप वास्तव में एक अच्छा Swachh Bharat Abhiyan Essay in Hindi चाहते हैं तो ये निबंध पढ़िये।

Swachh Bharat Abhiyan Essay in Hindi – Essay on Swachh Bharat in Hindi

प्रस्तावना (स्वच्छ भारत अभियान का)

आजकल स्वच्छता हर जगह पर होनी चाहिए। वह न केवल घर, सड़क या मोहल्ला नहीं. लेकिन पूरा राष्ट्र स्वच्छ होना चाहिए। अगर हमारा घर या मोहल्ला स्वच्छ रहेगा। तो पूरा देश स्वच्छ रहेगा। इसी मुद्दे को मद्देनजर नजर रखते हुए भारत सरकार द्वारा चलाई जा रही योजना। “स्वच्छ भारत अभियान” जो कि हमारे देश के प्रत्येक गांव और शहर में प्रारंभ हो गई है। इस योजना के तहत भारत सरकार ने हर गांव हर घर-घर शौचालय बनवाने का निर्णय लिया था। और वह सफल भी रहा है। और इस योजना के अंदर देश के सभी नागरिकों ने दिल से सहयोग दान दिया।

Swachh Bharat Abhiyan Essay in Hindi 

स्वच्छ भारत अभियान की शुरुआत

Swachh Bharat Abhiyan Essay in Hindi, Essay on Swachh Bharat Abhiyan in Hindi, Swachh Bharat Abhiyan in Hindi, Essay on Swachh Bharat in Hindi
पीएम मोदी स्वछता के प्रति जागरूक करते हुए (Image Credit- aajtak.in)

भारत के PM. Narendra Modi ने महात्मा गांधी जी की जयंती 2 अक्टूबर 2014 को स्वच्छ भारत अभियान की शुरुआत कीस्वच्छ भारत अभियान को Clean India और India Mission के नाम से भी जाना जाता है। भारत के माननीय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी ने महात्मा गांधी की 145 वीं जयंती के अवसर पर इस अभियान की शुरुआत की। 2 अक्टूबर 2014 को उन्होंने राजपथ पर जनसमूह को संबोधित करते हुए। स्वच्छ भारत अभियान में भाग लेने और इससे सफल बनाने को कहा। किस अभियान अभी तक का साफ-सफाई के संदर्भ में यह सबसे बड़ा अभियान है। और इस अभियान ने साफ-सफाई को लेकर भारत की छवि दुनिया में बदल दी है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी ने इस योजना को जन आंदोलन बनाकर देश को एक मुहिम से जोड़ने का काम किया है। (Swachh Bharat Abhiyan Essay in Hindi, Essay on Swachh bharat Abhiyan in Hindi)

Swachh Bharat Abhiyan Essay in Hindi, Essay on Swachh Bharat Abhiyan in Hindi, Swachh Bharat Abhiyan in Hindi, Essay on Swachh Bharat in Hindi.

महात्मा गांधी जी का उद्देश्य

भारत के राष्ट्रपिता महात्मा गांधी क्योंकि स्वतंत्रता से पहले भारत को स्वच्छ रखने का उद्देश्य था। और Mahatma Gandhi ने स्वच्छता को ईश्वर भक्ति के बराबर माना। स्वस्था की शिक्षा को उन्होंने सभी को प्रदान की। और और अपना उद्देश्य पूर्ण करें का काम किया। महात्मा गांधी जी का एक सपना जो कि सभी देश के नागरिकों को एक साथ मिलकर देश को साफ रखने था। 

इसी के तहत जिस आश्रम में वो रहते थे वहां रोजाना सुबह 4:00 बजे उठकर स्वयं सफाई करते थे । उन्होंने वर्धा आश्रम में अपना स्वम का शौचालय बनवाया था जिसको प्रतिदिन शुबह–शाम साफ भी करते थे। गांधी जी की यही स्वच्छ भारत के सपनों को पूरा करने के लिए श्री नरेंद्र मोदी जी ने स्वच्छ भारत अभियान की शुरुआत की। (Swachh Bharat Abhiyan Essay in Hindi, Essay on Swachh bharat Abhiyan in Hindi)

ये भी पढ़ें -  Digital India Essay in Hindi- डिजिटल इंडिया पर निबंध (Essay on Digital India in Hindi)
Swachh Bharat Abhiyan Essay in Hindi, Essay on Swachh Bharat Abhiyan in Hindi, Swachh Bharat Abhiyan in Hindi, Essay on Swachh Bharat in Hindi
Swachh Bharat Abhiyan Essay in Hindi

Swachh Bharat Abhiyan Essay in Hindi, Essay on Swachh Bharat Abhiyan in Hindi, Swachh Bharat Abhiyan in Hindi, Essay on Swachh Bharat in Hindi.

स्वच्छ भारत अभियान के उद्देश्य (Aims of Swachh Bharat Abhiyan)

स्वच्छ भारत अभियान का मुख्य उद्देश्य देश का विकास और देश को साफ सुथरा रखना है। इस अभियान के तहत 2021 तक सभी घरों में स्वच्छ पानी की पूर्ति करवाना। और गांवों में स्वच्छ पानी के पाइप लाइन लगवाना जिससे गांव, कस्बे और शहर में स्वच्छता बनी रहे। इस उद्देश्य के तहत खुले में शौच करवाना बंद किया जाएगा। क्योंकि इसके कारण साल में हजारों बच्चों की मौत हो रही है। 

यह है, स्वच्छ भारत अभियान के मूल उद्देश्य (Main Aim s of Swachh Bharat Abhiyan Essay in Hindi)

1. लगभग 11 करोड़ 11 लाख व्यक्तिगत, सामूहिक शौचालयों का निर्माण करवाना जिसमे 1 लाख 34 हजार करोड रुपए खर्च होंगे।

2. लोगों की मानसिकता को बदलना उचित स्वच्छता का उपयोग करके।

3. शौचालय उपयोग को बढ़ावा देना और सार्वजनिक जागरूकता को शुरू करना।

4. गांवो को साफ रखना।

5. सड़के फुटपाथ ओर बस्तियां साफ रखना।

6. साफ सफाई और स्वच्छता के प्रति देश के नागरिकों को जागरूक करना । 

स्वच्छ भारत अभियान की आवश्यकता

स्वच्छ भारत अभियान के उद्देश्य की प्राप्ति तक भारत के इस Mission की कार्यवाही निरंतर चलती रहनी चाहिए। एक मानसिक, सामाजिक और देश के प्रति कल्याण के लिए भारत के लोगों को इसका अहसास होना बहुत आवश्यक है। यह अभियान देश की सामाजिक और आर्थिक स्थिति को बढ़ावा देने में मदद करेगा।

Swachh Bharat Abhiyan Essay in Hindi, Essay on Swachh Bharat Abhiyan in Hindi, Swachh Bharat Abhiyan in Hindi, Essay on Swachh Bharat in Hindi.

यह है इस अभियान की आवश्यकताएं (Need of Swachh Bharat Abhiyan)

  1. हमारे देश में कोई भी ऐसी जगह नहीं है। जहां पर कूड़ा या गंदगी नहीं पहली हो हमारे भारत देश के हर शहर, हर गांव, हर एक मोहल्ला, एक गली पूरी तरह से गंदगी से भरी पड़ी है। इन सभी में सुधार लाने के लिए यह अभियान बेहद आवश्यक है। 
  2. भारत में अभी भी गांव में शौचालय नहीं होने के कारण आज भी लोग खुले में शौच करने जाते हैं। जिसके कारण हर जगह गंदगी फैलती है। और इस गंदगी से बीमारियां उत्पन्न होती है। इन सभी को रोकने के लिए यह अभियान चलाना जरूरी है। (Swachh Bharat Abhiyan Essay in Hindi)
  3. देश में नदी और नाले कूड़े कचरे और गंदगी से भरे पड़े हैं। जिससे पानी में बीमारियां उत्पन्न हो रही है। इन सभी को रोकने के लिए इस अभियान को चलाना बेहद आवश्यक है। (Essay on Swachh bharat Abhiyan in Hindi)
  4. देश में हर जगह गंदगी और बीमारियों को देखते हुए। विदेशी पर्यटकों की संख्या में अभी कमी देखने को मिल रही है। जिस कारण हमारे देश की आर्थिक व्यवस्था को नुकसान पहुंचता है। 
  5. भारत देश को बीमारी मुक्त व हरियाली युक्त बनाने के लिए यह अभियान चलाया जा रहा है। 
ये भी पढ़ें -  मुंशी प्रेमचंद की जीवनी व निबंध || Biography And Essay On Munshi Premchand

इन सभी वजहों के कारण देश के अंदर स्वच्छ भारत अभियान को चलाना चाहिए। और इस अभियान में देश के हर नागरिक को योगदान देकर इस अभियान को सफल बनाना चाहिए।

Swachh Bharat Abhiyan Essay in Hindi, Essay on Swachh Bharat Abhiyan in Hindi, Swachh Bharat Abhiyan in Hindi, Essay on Swachh Bharat in Hindi.

देश के स्वच्छ न होने के कारण:

1. शिक्षा का अभाव

हमारे देश अभी भी शिक्षा के क्षेत्र में काफी पिछड़ा हुआ है। और अशिक्षित लोग स्वच्छता के बारे में इतना ध्यान नहीं देते हैं। देश में सूचना का मिशन कामयाब रखने के लिए देश की जनता में शिक्षा का आभास होना चाहिए। 

2. घरों में शौचालयो का नहीं होना

Swachh Bharat Abhiyan Essay in Hindi, Essay on Swachh Bharat Abhiyan in Hindi, Swachh Bharat Abhiyan in Hindi, Essay on Swachh Bharat in Hindi
खुले में शौच करता व्यक्ति (image credit- Opinion Nigeria)

आपने देखा होगा कि अक्सर गांव में घरों में शौचालय नहीं होते हैं। जिसके कारण लोग शौच करने के लिए या तो खेतों में जाते हैं। या फिर रेल की पटरियों के पास जाकर शौच करते हैं। जिसके कारण हर तरफ गंदगी का माहौल पैदा हो जाता है। (Swachh Bharat Abhiyan Essay in Hindi)

5 सार्वजनिक शौचालय का अभाव

देश में सार्वजनिक शौचालय की कमी हर जगह नजर आती है। जिसके कारण ज्यादातर लोग सड़क के किनारे या कोई पूना देखकर खुले में सोच कर लेते हैं। जिससे वातावरण में गंदगी फैलती है। (Essay on Swachh bharat Abhiyan in Hindi)

6. कचरे का सही निस्तारण का अभाव

कचरे के निस्तारण का अभाव (इमेज क्रेडिट- jagran.com)

हमारे देश में कचरा बहुत बड़ी समस्या है, 2017 के आंकड़ों के अनुसार भारत प्रति दिन 1,00,000 मीट्रिक टन कचरा उत्पन्न करता है। इतनी बड़ी संख्या में कचरा निकलने के बावजूद भी इसके निस्तारण के सही उपाय नहीं किए गए हैं।

7. उद्योगों का अपशिष्ट पदार्थ

हमारे देश में कई उद्योग धंधे चल रहे हैं। जिनमें से अलग-अलग प्रकार के बड़ी मात्रा में अपशिष्ट पदार्थ निकलता है। जोकि पास ही में भरे नदिया नाले में बह जाता है। जिससे पूरा वातावरण प्रदूषित हो जाता है। (Swachh Bharat Abhiyan Essay in Hindi)

Swachh Bharat Abhiyan Essay in Hindi, Essay on Swachh Bharat Abhiyan in Hindi, Swachh Bharat Abhiyan in Hindi, Essay on Swachh Bharat in Hindi.

देश को स्वच्छ रखने के उपाय

Swachh Bharat Abhiyan Essay in Hindi, Essay on Swachh Bharat Abhiyan in Hindi, Swachh Bharat Abhiyan in Hindi, Essay on Swachh Bharat in Hindi
घर मे शौच की व्यवस्था (इमेज क्रेडिट- विकिपीडिया)
  1. हमें देश के हर घर-घर में शौचालय बनवाने चाहिए, ताकि लोग बाहर खुले में ना जाए ।
  2. हमारे शहर, हर गांव की सार्वजनिक जगहों पर सार्वजनिक शौचालय बनवाने चाहिए।
  3. लोगों के अन्दर साफ सफाई और स्वच्छता के प्रति जागरूकता फैलानी चाहिए जिससे की वो अपने आस पास साफ़ रख सके।
  4. हमें जगह-जगह कचरा पात्रों का निर्माण करवाना चाहिए ।
  5. साफ़ सुथरा को लेके शिक्षा के प्रचार-प्रसार को बढ़ावा देना चाहिए ।
  6. लोगों की मानसिकता बदलने के लिए साफ-सफाई के संदेश को गांव-गांव तक पहुंचाना चाहिए।
  7. लोगों को गंदगी के गंभीर परिणामों के बारे में बताना चाहिए, जिससे की उनको पता चले कि उनके गंदगी फैलाने से उनके साथ-साथ पूरे वातावरण को कितना नुकसान हो रहा है।
  8. हमें बढ़ती हुई जनसंख्या को कम करने के लिए लोगो के बीच जागरूकता फैलानी होगी। 
  9. हमें कचरे के निस्तारण की सही विधि का पता लगाकर उउसे सही जगह में यूज़ करना चाहिए | 
  10. हमें उद्योग धंधे चलाने वाले लोगों में जागरूकता फैलाने होगी, कि उनके छोटे से स्वार्थ के कारण हमारा पूरा वातावरण कितना प्रदूषित हो रहा है।
  11. हमें नए कानूनों का निर्माण करना चाहिए, जिससे कि लोग कहीं भी गंदगी ना फैलाएं, और ना फ़ैलाने दे ।
ये भी पढ़ें -  रक्षाबंधन पर निबन्ध| hindi essay on rakshabandhan

Swachh Bharat Abhiyan Essay in Hindi, Essay on Swachh Bharat Abhiyan in Hindi, Swachh Bharat Abhiyan in Hindi, Essay on Swachh Bharat in Hindi.

स्वच्छ भारत अभियान में अन्य योगदान

PM. Modi ने स्वच्छ भारत अभियान के प्रचार-प्रसार के लिए कुछ प्रभावी व्यक्तियों को चुना था। जिनका काम अपने-अपने क्षेत्र में लोगों को स्वच्छता के प्रति जागरुक कराना है।

मुख्य रूप से इन लोगों ने स्वच्छ भारत अभियान में अपना योगदान दिया :- 

  1. सचिन तेंडुलकर (Cricketer)
  2. महेन्द्र सिंह धोनी (Cricketer)
  3. विराट कोहली (Cricketer)
  4. बाबा रामदेव
  5. सलमान खान (Actress)
  6. शशि थरूर (संसद के सदस्य)
  7. तारक मेहता का उल्टा चश्मा की टीम
  8. ईआर दिलकेश्वर कुमार
  9. कमल हसन (Actress)
  10. अनिल अंबानी (उद्योगपति)
  11. प्रियंका चोपड़ा (Actresses)
  12. मृदुला सिन्हा (लेखिका)

Swachh Bharat Abhiyan Essay in Hindi, Essay on Swachh Bharat Abhiyan in Hindi, Swachh Bharat Abhiyan in Hindi, Essay on Swachh Bharat in Hindi.

निष्कर्ष (Conclusion)

Mahatma Gandhi द्वारा कहे गए कथन जो कि स्वच्छता पर आधारित हैं। उनके अनुसार स्वच्छता की एक जागरूक मिसाल सभी देशवासियों में पैदा होने चाहिए। जिसके तहत स्कूलों में भी स्वच्छ भारत अभियान के कार्यक्रम होने लगे हैं। महात्मा गांधी कहते थे। कि स्वच्छता से ना हमारा तन साफ रहेगा। स्वच्छता से हमारा मन भी साफ रहेगा। और स्वच्छ भारत की मिसाल आज पूरे देश के लिए आवश्यक है। और इसके लिए कई अलग-अलग कार्यक्रम भी किए जा रहे हैं। 

ये भी पढ़ें-

Tags- Swachh Bharat Abhiyan Essay in Hindi, Essay on Swachh Bharat Abhiyan in Hindi, Swachh Bharat Abhiyan in Hindi, Essay on Swachh Bharat in Hindi.

Leave a Reply