Pareto का 80/20 Rule in Hindi

Pareto 80 20 Rule in Hindi – Vilfredo Pareto जो कि इटली के जाने माने अर्थशास्त्री थे। इन्होंनेे ही सबसे पहले 80/20 रूल को रियल लाइफ में observe किया और इसी कारण 80-20 rule या प्रिंसिपल का जनक परेटो को ही माना जाता है।

आज हम Pareto का 80-20 Rule hindi में समझाएंगे। आपने कई जगह 80/20 principle के बारे में सुना होगा। पर 80/20 rule को रियल लाइफ में कैसे use करना है आपने सही से नही सीखा होगा।

आज मैं आपको Richard Koch द्वारा लिखी Book 80/20 rule को हिंदी में समझाऊंगा। Pareto Principle कैसे आपकी Life चेंज कर सकता है। आपको आगे पढ़कर समझ में आ जायेगा।

80/20 Rule in Hindi | Pareto Principle in Hindi

सबसे पहले तो आपको ये पता होना चाहिए कि 80/20 Rule को ही Pareto Principle भी कहते हैं।

80-20 Rule केवल उन चीजों पर फोकस करना सिखाता है जो ज़्यादा मैटर करती हैं। और कम मैटर करने वाली चीजों को इग्नोर करना सिखाता है।

आइये और अच्छे से समझते हैं।

सबसे पहले ये विचार Vilfrado Pareto के दिमाग में आया कैसे? इन्होनें नोटिस किया कि देश की 80% प्रॉपर्टी और money 20% पॉपुलेशन के पास है।

इसके बाद इन्होंने ख़ुद की सोच को केवल बिजनेस तक नही रखा। इन्होंने अपने Garden में नोटिस किया कि 20% मटर के पौधे 80% मटर प्रोड्यूस करते हैं।

80/20 Rule को Book के Author ने कैसे सीखा?

अब लेखक अपनी बात करते हैं कि कैसे उन्होंने 80/20 Principle को अपनाया और कैसे इसे रियल लाइफ में use करना सीखा।

ये भी पढ़ें -  Pomodoro Technique क्या है? कैसे काम करती है?

लेखक कहते हैं कि उन्होंने सबसे पहले 80-20 Rule को अपनी पढ़ाई में प्रयोग किया पर शुरुआत में इसका बाकी अन्य चीजों में विस्तार से प्रयोग करने में असफल रहे।

लेखक को सालों लगे 80-20 रूल के true पोटेंशियल को खोजने में। उन्होंने कॉरपोरेट अमेरिका में 80/20 प्रिंसिपल का प्रयोग करना शुरू किया।

लेखक कहते हैं कि जो कॉर्पोरेट की meetings होती थीं वो 80% समय बर्बादी मात्र थी केवल 20% मीटिंग ही useful थी। तो उन्होंने मीटिंग्स स्किप करना शुरु कर दिया। और केवल उतनी ही मीटिंग्स की जो वाकई useful थीं।

ऐसे ही उन्होंने emails में किया। 80% ईमेल केवल सरदर्द बढ़ाती थीं जबकि useful नही थीं। तो maximum emails इग्नोर करना सीखा। केवल 20% useful ईमेल ही पढ़ा और रिस्पांस दिया।

ऐसे इनका समय काफी बचने लगा और इन्होंने अपना छोटा बिजनेस स्टार्ट किया और उसमे भी 80/20 Rule का सही इस्तेमाल करते हुए अच्छा revenue बनाया। उनका 80% revenue 20% कस्टमर से आता था।

ऐसे ही 80/20 Rule को Relationships में भी लेखक ने प्रयोग किया। उन्होंने देखा 80% फ्रेंड्स केवल नाम मात्र के दोस्त हैं और समय की बर्बादी करवाते हैं। केवल 20% ही ऐसे हैं जिनके साथ मैं वाकई खुश रहता हूँ। ऐसे उन्होंने अपना फ्रेंड सर्किल छोटा कर लिया।

ये भी पढ़ें -  Passive Income से कमाए पैसे, जियें अपनी ज़िंदगी बिना टेंशन के

हेल्थ और फिटनेस में भी उन्होंने pareto के 80-20 principle का प्रयोग किया। उन्होंने बहुत छोटे-छोटे निर्णय लिए जिनका इम्पैक्ट काफी बड़ा था। जैसे ऐसा खाना, खाना छोड़ दिया जिसमें processed सुगर थी। इस सुगर का मोटापा बढ़ाने में काफी योगदान रहता है। सारा खाना छोड़ना डाइटिंग आदि करने की बजाय एक ऐसा निर्णय लिया जिससे फर्क काफी ज्यादा पड़ता था।

इसी प्रकार gym जाने जैसे बड़े काम करने की बजाय केवल Push ups और walk पे फोकस किया और इसका प्रभाव काफी बड़ा दिखाई पड़ा।

ऐसे ही Book लिखते वक्त भी 80-20 rule का यूज़ राइटर ने किया।

इनका कहना यही है कि ऐसे छोटे काम या छोटी चीज़ चुनो जो काफी बड़ा इम्पैक्ट डाल रही हो। और वाकई ये प्रैक्टिकल बात है कि 20% चीज़ ही सबसे ज़्यादा इम्पोर्टेन्ट होती हैं। पर हम लोग 80% कम इम्पोर्टेन्ट चीजों पर ध्यान देते हैं और फिर पछताते रह जाते हैं।

10 ऐसे Reasons जिनके लिए 80-20 Rule को आपको अपनी life में use करना चाहिए

  1. 80/20 Rule टाइम मैनेजमेंट Improve करता है।
  2. प्रोडक्टिविटी और दक्षता बढ़ाता है।
  3. निर्णय लेने की क्षमता को तेज करता है।
  4. 80/20 Principle फोकस बढ़ाता है।
  5. क्रिएटिविटी और अच्छी करता है।
  6. रिलेशनशिप पहले से और अच्छी और खुशहाल हो जाती है।
  7. नेतृत्व को कुशल बनाता है।
  8. काम टालने की आदत को खत्म करता है।
  9. इन्फॉर्मेशन ओवरलोड होने से बचाता है।
  10. तथाकथित परफेक्शन की बीमारी ख़त्म करता है।
ये भी पढ़ें -  Passive Income से कमाए पैसे, जियें अपनी ज़िंदगी बिना टेंशन के

80/20 Rule को आप Life में कहां-कहां use कर सकते हैं?

लेखक ने अपनी 80/20 Rule Book में 7 चीजों पर फोकस किया है। जहाँ आप 80-20 Principle लगा सकते हैं और ज़िंदगी बेहतर बना सकते हैं। वो 7 चीज़े ये रहीं –

1- Career

2- घरेलू ज़िंदगी ( Home life)

3- रिश्ते ( Relationships)

4- छोटे व्यापार

5- शिक्षा और प्रशिक्षण

6- फाइनेंस

7- डाइट और एक्सरसाइज

Final Word : 80/20 Rule | Pareto Principle

लेखक ने पुस्तक की शुरुआत में ही बताया है कि ज्यों का त्यों इसे फॉलो न करें। 80/20 Principle को अपनी ज़िंदगी में प्रयोग करना सीखें। अपनी परिस्थिति और अपने वातावरण को देखकर Pareto Principle यानी कि 80-20 Rule को प्रयोग करें।

मैंने आपको Pareto का 80/20 Rule Hindi में समझाया है। और इसको समझाने के लिए मैंने किताब को पहले पढ़ा और समझा है। उम्मीद है आप भी इस rule को लाइफ में use करेंगे। अगर आपको वाकई Pareto Principle पसन्द आया तो इसे share ज़रूर करें।

Leave a Comment