10 Best कबीर के दोहे हिंदी में और अंग्रेजी में अर्थ सहित

कबीर के दोहे सबसे ज़्यादा पढ़े और बोले जाने वाले दोहे माने जाते हैं। कबीरदास के दोहे केवल भारत मे ही नही वरन सम्पूर्ण विश्व मे विख्यात हैं।

आज HMJ आपके लिए Kabir Ke Dohe in Hindi and With English Meaning लेकर आया है। हम आपको कबीर के दोहे हिंदी में और अंग्रेजी अर्थ सहित बताएंगे। जिसे पढ़कर आप उन दोहों का वास्तविक अर्थ समझ सकेंगे।

कबीर के दोहे हिंदी में | Kabirdas ke dohe with hindi and English Meaning

आइये पढ़ते हैं कबीरदास जी के प्रसिद्ध दोहे।

कबीर के दोहे हिंदी में [ 1 से 10 ]

कबीर का दोहा – 1

माला फेरत जुग भया, फिरा न मन का फेर,
कर का मनका डार दे, मन का मनका फेर।

अर्थ: कोई व्यक्ति लम्बे समय तक हाथ में लेकर मोती की माला तो घुमाता है, पर उसके मन का भाव नहीं बदलता, उसके मन की हलचल शांत नहीं होती। कबीर की ऐसे व्यक्ति को सलाह है कि हाथ की इस माला को फेरना छोड़ कर मन के मोतियों को बदलो या फेरो।

Meaning: A person howsoever seems to be chanting and praying to God but can’t attain peace in his heart. Kabir suggests such people to change thoughts and feelings in their heart rather than following the same old habit.


Kabir ke Dohe – 2

कबीर का दोहा
कबीर का दोहा

जाति न पूछो साधु की, पूछ लीजिये ज्ञान,
मोल करो तरवार का, पड़ा रहन दो म्यान।

अर्थ: सज्जन की जाति न पूछ कर उसके ज्ञान को समझना चाहिए। तलवार का मूल्य होता है न कि उसकी मयान का – उसे ढकने वाले खोल का।

Meaning: A person should be judged on the talent thy attain or the knowledge thy have instead of questioning them on the basis of cast, color or creed.
Real value is of the sharpness of sword not the cover which holds the sword.

ये भी पढ़ें -  Good Morning Quotes in Hindi [For Whatsapp, Facebook, Instagram,With Photos]

कबीरदास जी के दोहे – 3

तिनका कबहुँ ना निन्दिये, जो पाँवन तर होय,
कबहुँ उड़ी आँखिन पड़े, तो पीर घनेरी होय।

अर्थ: कबीर कहते हैं कि एक छोटे से तिनके की भी कभी निंदा न करो जो तुम्हारे पांवों के नीचे दब जाता है। यदि कभी वह तिनका उड़कर आँख में आ गिरे तो कितनी गहरी पीड़ा होती है !

Meaning: Sant Kabir says that don’t ridicule even a small whit thinking it’s under your foot. If that whit flies into your eyes, it can be really painful.


Kabirdas ji ke dohe – 4

Kabirdas ji ke dohe in hindi and English
Kabirdas ji ke dohe in hindi and English

साधु ऐसा चाहिए, जैसा सूप सुभाय,
सार-सार को गहि रहै, थोथा देई उड़ाय।

अर्थ: इस संसार में ऐसे सज्जनों की जरूरत है जैसे अनाज साफ़ करने वाला सूप होता है। जो सार्थक को बचा लेंगे और निरर्थक को उड़ा देंगे।

Meaning: This world needs such people who have the conscience of the right and the wrong and can value their actions accordingly similar to the tool which separates the good wheat with it’s husk.


कबीर के दोहे हिंदी में अर्थ सहित – 5

जब गुण को गाहक मिले, तब गुण लाख बिकाई।
जब गुण को गाहक नहीं, तब कौड़ी बदले जाई।

अर्थ: कबीर कहते हैं कि जब गुण को परखने वाला गाहक मिल जाता है तो गुण की कीमत होती है। पर जब ऐसा गाहक नहीं मिलता, तब गुण कौड़ी के भाव चला जाता है।

Meaning: Sant Kabir says, When you find a customer who values quality and have understanding of a valuable product, you get a good price for that. But if you cannot find such customers, the value of that product would be disgraced heavily.


कबीर के दोहे – 6

कबीर दास के प्रसिद्ध दोहे
कबीर दास के प्रसिद्ध दोहे

कबीरा खड़ा बाज़ार में, मांगे सबकी खैर,
ना काहू से दोस्ती,न काहू से बैर।

अर्थ: इस संसार में आकर कबीर अपने जीवन में बस यही चाहते हैं कि सबका भला हो और संसार में यदि किसी से दोस्ती नहीं तो दुश्मनी भी न हो !

ये भी पढ़ें -  [28 Best] Ultimate Republic Day 26 January Shayari, Quotes, Poems With Images in Hindi 2020 - For Whatsapp Status, Instagram Post, Story, Facebook Status

Meaning: In this world, Sant Kabir only wants in life is greater good. Everyone to be happy and blessed. Even if someone’s not Sant Kabir’s friend shouldn’t be his enemy either.


कबीर दोहा अर्थ सहित – 7

कबीर कहा गरबियो, काल गहे कर केस।
ना जाने कहाँ मारिसी, कै घर कै परदेस।

अर्थ: कबीर कहते हैं कि हे मानव ! तू क्या गर्व करता है? काल अपने हाथों में तेरे केश पकड़े हुए है। मालूम नहीं, वह घर या परदेश में, कहाँ पर तुझे मार डाले।

Meaning: Sant Kabir says that O Human! What are you proud of? Time is holding your hair in it’s hands. You are not even sure where it destroys you would it be your homeland or a foreign land.


कबीरदास जी के अनमोल वचन 8

कबीरदास जी के अनमोल वचन
कबीरदास जी के अनमोल वचन

बुरा जो देखन मैं चला, बुरा न मिलिया कोय,
जो दिल खोजा आपना, मुझसे बुरा न कोय।

अर्थ: जब मैं इस संसार में बुराई खोजने चला तो मुझे कोई बुरा न मिला। जब मैंने अपने मन में झाँक कर देखा तो पाया कि मुझसे बुरा कोई नहीं है।

Meaning: When I tried to find the evil in this world, I couldn’t find one. But I was amazed to find out, when I looked up my heart. It’s the one filled with all the evil.


कबीर के दोहे – 9

कबीर लहरि समंद की, मोती बिखरे आई।
बगुला भेद न जानई, हंसा चुनी-चुनी खाई।

अर्थ: कबीर कहते हैं कि समुद्र की लहर में मोती आकर बिखर गए। बगुला उनका भेद नहीं जानता, परन्तु हंस उन्हें चुन-चुन कर खा रहा है। इसका अर्थ यह है कि किसी भी वस्तु का महत्व जानकार ही जानता है।

ये भी पढ़ें -  Best Happy Holi Status in Hindi | Holi Wishes & Shayari

Meaning: If there are pearls in ocean, a crane or heron won’t find a difference between pearls and picks whereas a Swan would try to pick up the pearls to the best of his abilities as he’s the one who understands the value of pearl. Sant Kabir implies that only a true knowledgeable person knows the value of a particular good.


Kabir ke famous dohe – 10

Kabir ke famous dohe, कबीर के दोहे,
Kabir ke famous dohe

पोथी पढ़ि पढ़ि जग मुआ, पंडित भया न कोय,
ढाई आखर प्रेम का, पढ़े सो पंडित होय।

अर्थ: बड़ी बड़ी पुस्तकें पढ़ कर संसार में कितने ही लोग मृत्यु के द्वार पहुँच गए, पर सभी विद्वान न हो सके। कबीर मानते हैं कि यदि कोई प्रेम या प्यार के केवल ढाई अक्षर ही अच्छी तरह पढ़ ले, अर्थात प्यार का वास्तविक रूप पहचान ले तो वही सच्चा ज्ञानी होगा।

Meaning: Even after reading so many books, every reader found death knocking over their doors. One couldn’t be a scholar in whole lifetime. But Sant Kabir believes that the true scholar is the one who can simply read those three letters of love and understand it’s real meaning clearly.


फाइनल वर्ड कबीर के दोहे के बारे में

दोस्तों ये थे कबीर के दोहे हिंदी में व अंग्रेजी अर्थ सहित। आपको ये। Kabirdas ke dohe पसन्द आये होंगे। अगर आपको Kabir ke dohe पसन्द आये हों तो इसे अपने दोस्तों के साथ ज़रूर शेयर करिये।

Leave a Reply