शिक्षक दिवस पर भाषण – Speech on teachers’ day in hindi 2018

2
95
about teachers day speech
about teachers day speech
दोस्तों “शिक्षक दिवस पर भाषण – Speech on teachers’ day in hindi 2018” विषय पढ़कर ही आप समझ गये होंगे की आज Teachers day Speech in hindi आपको पढ़ने को मिलेगा आज के हमारे मुख्य post की theme इन कुछ बिन्दुओं के इर्द-गिर्द ही घूमेगी:
speech on teachers day in hindi,
teachers day speech in hindi by student,
about teachers in hindi,
Teachers day,
Teachers day in india

Speech on teachers' day in hindi 2018
शिक्षक दिवस पर भाषण – Speech on teachers’ day in hindi 2018

एक student चाहे तो attractive speech बोलकर अपने teachers को impress कर सकता है..Speech बोलने का एक तरीका होता है, speech ऐसे बोलना चाहिए कि वो लगे न कि आप उसे रटकर बोल रहे हैं, speech ऐसे बोलना चाहिए जैसे आप अपने friends से बात करते हैं बेझिझक,निसंकोच होकर,आराम से धैर्यपूर्वक ठहराव लेते हुए बोलने से आपका भाषण प्रभावी होता है, यहाँ HMJ आपको बतायेगा कि teachers day in india कैसे सेलिब्रेट करना चाहिए और एक टीचर क्या होता है means about teachers in hindi. आप जब यह speech एक दो बार पढ़ लेंगे तो आप इसे अच्छे ढंग से perform कर सकेंगे..speech की शुरुआत ही बता देती है कि लोग उसमे interest लेंगे या नही.. चलिए शुरू करते हैं speech.. और अगर आप teachers day पर quotes, poems या शायरी पढना चाहते हों तो नीचे दी हुई लिंक पर क्लिक करें वरना स्क्रॉल करके आगे speech पढें…

ये भी पढ़ें

शिक्षक दिवस पर शायरी और कवितायें – Teachers’ Day Shayari and Poems in Hindi

Speech On Teachers Day in Hindi | Teachers Day Speech in Hindi by Student | About Teachers in Hindi | Teachers’ Day | Teachers Day in India
पूज्य मुख्य अतिथि जी, श्रद्धेय प्रधानाचार्य जी, आदरणीय समस्त गुरुजन एवं मेरे प्रिय दोस्तों!

पता है क्यू इतना मुस्कुरा रहे हम?क्योंकि Teachers day मनाने जा रहे हम..

आज की date शायद ही कोई भूल सकता हो,मुझे नही लगता कि आज का दिन कोई miss करना चाहता है,ये केवल टीचर के लिए ही नही हमारे लिए भी एक इम्पोर्टेन्ट day है..और सबको ज्ञात भी होगा कि ये दिन क्यों मनाया जाता है, डॉक्टर सर्वपल्ली राधाकृष्णन को कौन नही जानता, उन्होंने साबित कर दिया था कि एक शिक्षक ही राष्ट्र का निर्माण करने वाला होता है,पर फिर भी मुझे थोड़ा सा दुःख होता है कि हर कोई डॉक्टर,इंजीनियर ही बनना चाहता है, टीचर कोई नही बनना चाहता..
जबकि पूरे संसार में सबसे ज्यादा respect एक टीचर को मिलती है और कहा भी गया है कि-

गुरुर्ब्रह्मा गुरुर्विष्णु, गुरुर्देवो महेश्वरः,गुरुः साक्षात् परम ब्रह्म,तस्मै श्रीगुरवे नमः..

हमारे parents के बाद एक टीचर ही है जो हमे सही destination तक पहुंचने में help करता है, एक टीचर की महानता के बारे में जितना कहा जाए उतना कम है..कबीर दास जी ने भी तो लिखा है कि-

गुरु गोविन्द दोउ खड़े काके लागूं पाय,बलिहारी गुरु आपने गोविन्द दियो बताय..

दुनिया में आज जितने भी लोग success हुए हैं वो अकेले खुद के दम पर नही हुए,उनकी सफलता के पीछे उनके गुरु का हाथ होता है,चाहे Directly हो या फिर Indirectly. हाँ आज की स्वार्थी दुनिया में शिक्षा जहाँ एक व्यवसाय बन गयी है वहां कुछ टीचर व्यापारी भी बन गये हैं,पर हमे positive aspect देखना है.
शायद मेरी speech लम्बी हो रही है,कुछ लोग बोर होते हुए दिखाई दे रहे हैं,तो मै अपने सभी टीचर्स को नमन करते हुए अपनी speech समाप्त कर रहा/रही हूँ..और जाते-जाते दो और गुरुओं को नमन करना चाहूँगा पहला गुरु “वक्त” और दूसरा गुरु Google, इन दोनों ने भी मुझे काफी कुछ सिखाया है..
धन्यवाद…!!

2 COMMENTS

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here