69000 Sahayak Adhyapak Bharti Pariksha Update

6 जनवरी 2019 को उत्तर प्रदेश की सहायक अध्यापक भर्ती परीक्षा शांतिपूर्ण तरीके से सम्पन्न हुई। परीक्षा का level easy to moderate था, जिसे एक ठीक ठाक तैयारी के जरिये निकाला जा सकता था।

69000 sahayak adhyapak bharti Pariksha Update

 

तो फिर क्या हुआ जो 69000 सहायक अध्यापक भर्ती परीक्षा में बाधाऐं आ गईं

सरकार ने शिक्षामित्रों को 2 मौके दिए थे कि वे अपनी स्थायी जगह सुनिश्चित कर सकें। गत परीक्षा में प्रतिभागियों की सँख्या 1 लाख के करीब थी और परीक्षा लिखित थी अर्थात उत्तर लिखकर बताना था। तो कटऑफ उसके हिसाब से तय की गई जिसमें 41 हजार कुछ प्रतिभागी उसे पास कर पाए।

इस बार परीक्षा ओएमआर पर हुई जिसमें लिखने की तुलना में कुछ राहत मिलती है। उत्तर आपके सामने होता है बस पहचान कर गोला भर देना है।

ये भी पढ़ें -  कैसे मुझे AdSense अप्रूवल मिला - How I Got Google AdSense Approval in Hindi

कटऑफ इस बार हाई गयी आखिर क्यों?

इस बार प्रतिभागियों की संख्या 4 गुना अधिक थी। लगभग साढ़े चार लाख लोगों ने परीक्षा दी चलिये आंकड़ा 4 लाख ही मानिए। कटऑफ गयी 60-65% अर्थात 90-97 अंक।

कटऑफ हाई जाने की 2 मुख्य वजहें थीं पहली की संख्या में वृद्धि हुई पर पद तो उतने ही थे तो उत्तम लोगों का चुनाव करने का एक पैमाना बनाया गया और दूसरी वजह थी कि इस बार परीक्षा ओएमआर में थी जिसमे सही गोला भरने पर पूरे अंक मिलते हैं,मात्रा पाई के अंक नही कटते।

ये 2 वजह बिना जाने बिना समझे कुछ भोले भाले महानुभाव लोग बच्चों की तरह रोते हुए केस कर दिए,याचिका दायर कर दिए कि मेले तो कम अंक हैं मेले को नौकली चाहिए, अच्छा सब न हटा सको तो मेले को 40-45% कटऑफ पे ले लो न, मै टैलेंटेड है। अरे ले लो न।

ये भी पढ़ें -  होली (Holi) की 3 महत्वपूर्ण कहानियां

इस तरह के कुछ लोगों ने शिक्षा का मज़ाक बनाकर रख दिया है फिर यही लोग कहते हुए पाये जाते हैं कि शिक्षा का स्तर अच्छा नही है। ज़रा एक बार ख़ुद से पूछिए अगर आप शिक्षक बनेंगे तो क्या वो गुणवत्ता रहेगी?

हां एक सच यह है कि आज के जमाने मे नौकरी बहुत ज़रूरी है और दूसरा सच ये भी दिख रहा है कि उस नौकरी को पाने के लिए कितना गिरा जा सकता है।

आज नौबत आ गयी है वैकेंसी फँसवाने के चक्कर मे हैं कुछ तथाकथित सहिष्णु जन।

अब सज्जन लोग जिन्होंने मेहनत से पढ़ाई करके कटऑफ क्लियर कर रखा है सिर्फ 2 बातें सोच रहे।

ये भी पढ़ें -  नैनो कार बनने के पीछे की ये कहानी आप नही जानते होंगे

1- भगवान कटऑफ न कम हो।

2- योगी चाहेगा तो कोई कुछ नही उखाड़ सकता।

 

दोस्तों मेरा उद्देश्य बस आप तक अपनी बात पहुंचाना था कि बहुत मेहनत लगती है पढ़ने में बहुत मेहनत लगती है एक नौकरी को पाने में,बहुत हौसला चाहिए होता है संघर्ष करने के लिए। कुछ चमन घोंचुओं की वजह से सब पर पानी फिर जाता है बहुतों की हिम्मत टूट जाती है,हौसला पस्त हो जाता है। कृपया एक दूसरे की हिम्मत बनाये और अगर बाते सच है कि जीत सच्चाई की होती है तो जल्द ही पता चल जाएगा।

आवाज़ दो……

Leave a Comment