होली (Holi) की 3 महत्वपूर्ण कहानियां

होली(holi) पर प्रहलाद और होलिका की कहानी

एक छोटा सा बालक था जिसका नाम प्रहलाद था उसके पिता का नाम हिरण्यकश्यप था वो एक राजा था हिरण्यकश्यप नास्तिक था वो अपने आप को ही ईश्वर मानता था तथा सभी लोगो से खुद की आराधना करने को बोलता था । उसका पुत्र प्रहलाद विष्णु भगवान का उपासक था ये बात हिरणकश्यप को बिल्कुल भी नही पसंद थी उसने बहुत बार प्रहलाद को समझाया और ना मानने पर दंडित भी किया फिर भी प्रहलाद विष्णु भगवान की ही पूजा करता था उसके बाद हिरणकश्यप ने अपनी बहन होलिका के साथ मिल कर प्रहलाद हो मारने की योजना बनाई होलिका को भगवान शंकर की तरफ से एक वरदान प्राप्त था जिसमे उसको एक चद्दर मिला था जिसे ओढ़ने के बाद अग्नि उसे नही जला सकती थी होलिका और प्रहलाद को जल्दी हुई अग्नि में बिठाया गया उसी समय हवा चली और वो चद्दर होलिका से जाकर प्रहलाद पे जा गिरी जिस वजह से प्रहलाद सकुशल बच गया और होलिका की जलकर मृत्यु हो गयी
यही कारण है कि होली बुराई पर अच्छाई की जीत के उपलक्ष्य के रूप में बड़े धूम धाम से मनाया जाता हैं ।

ये भी पढ़ें -  Order Reserved Ka Kya matlab hota hai? Order Reserved Meaning in Hindi

श्री कृष्णा और पूतना की कथा

भगवान श्री कृष्णा को उसके मामा कंस ने मारने के लिए पुतना राक्षसी को भेजा था पुतना राक्षसी सुंदर स्त्री का भेष रख कर बच्चों को दुग्ध पान कराया करती थी उसी बहाने वह बच्चों को बिष पिला कर मार देती थी यह बात जब श्री कृष्णा को पता चली तो जब वह श्री कृष्णा को दुग्ध पान कराने आई तो उन्होंने तब तक उसे नही छोड़ा जब तक कि खून नही निकल आया इस से पुतना राक्षसी की मृत्यु हो गई
इस प्रकार से होली पर्व अब पुतना राक्षसी की मृत्यु और कृष्णा की विजय के रूप में मनाते हैं

ये भी पढ़ें -  APJ Abdul Kalam's 11 Best Motivational Quotes And Thoughts in Hindi

दक्षिण भारत से संबंधित होली की कहानी

यह शिव और कामदेव से जुड़ी हुई कहानी हैं
कामदेव का धनुष ईख से बना था और उनका तीर हर दिल को प्यार से चीर देता था वसंत ऋतु के समय उनका मनोरंजन का साधन पक्षी , मनुष्य व पिशाच का शिकार करना था उन्होंने एक बार मनोरंजन के चक्कर मे एक गलत कार्य कर दिया जब भगवान शिव गहरी तपस्या में लीन थे तो उन्होंने तीर चला दिया उसके पश्चात भगवान शिव क्रुध्द होकर त्रिनेत्र खोल दिये जिस से काम देव भस्म हो गए उनकी पत्नी रति के बार बार अनुरोध करने पर भगवान शिव ने उन्हें दोबारा जीवित कर दिया परंतु एक शर्त थी कि तुम अपने पति को देख सकोगी परन्तु बिना शारीरिक रूप के ।

ये भी पढ़ें -  तत्सम और तद्भव शब्द|Tatsam aur tadbhav shabd

दक्षिण भारत मे होली इसीलिए मनाई जाती हैं तथा रति की करुणा के गीत गाये जाते है ।

1 thought on “होली (Holi) की 3 महत्वपूर्ण कहानियां”

Leave a Comment