अधिगम अक्षमता, प्रकार , विशेषताएं

0
517

अधिगम अक्षमता किसे कहते है?


अधिगम अक्षमता से अभिप्राय उन मनोवैज्ञानिक दशाओं से है जिसमे व्यक्ति का मस्तिष्क सुचारू रूप से कार्य करने में अक्षम होता है। साथ ही साथ बोलने में असमर्थ होता है और लिखने में भी असमर्थ होता है। इस प्रकार की बालक को होने वाली परेशानी को ही अधिगम अक्षमता कहते है।

अधिगम अक्षमता
अधिगम अक्षमता


अधिगम अक्षम्य बालक- ऐसे बालक जो उपरोक्त बताई गई दशाओं में से किसी एक दशा या उस से अधिक दशाओं से अधिगम में परेशानी का सामना करते है। ऐसे बालको को ही अधिगम अक्षम्य बालक कहते है।


आज HMJ आपको अधिगम अक्षमता , अधिगमअक्षम्य बालक ,   अधिगम अक्षमता के प्रकार से आपको अवगत कराएंगे।


अधिगम अक्षम्य या निर्योग्य बालक की विशेषताए-

क्लीमेंट ने सन 1966 में अधिगम अक्षमता से सम्बंधित 99 विशेषताओं की सूची प्रस्तुत की थी । इनमें से 9 विशेषताए ऐसी है जो अदिग्म अक्षम्य या निर्योग्य बालको में अवश्य ही पाई जाती है। जो कि निम्न लिखित है।


★ अतिसक्रियता
★सांवेगिक अस्थिरता
★ प्रोत्साहन में कमी
★ विशिष्ट शैक्षिक समस्याएं
★ विधुत तरंगों में असमरूपता
★प्रात्यक्षिक गतिक स्थिरता
★ सामान्य समन्वय का अभाव
★स्मृति एवम चिंतन व्यवधनित
★ अध्य्यन समस्या


अधिगम अक्षमता के प्रकार-

अधिगम अक्षमता के निम्नलिखित प्रकार होते है।

  1. पठन अक्षमता
  2. लेखन अक्षमता
  3. भावबोधक अक्षमता
  4. अंकगणितीय अक्षमता
    पठन अक्षमता – पठन अक्षमता का अभिप्राय पठन विकार होना है। इसके दो रूप होते है
    (1) डिस्लेक्सिया
    (2) एलेक्सिया
    लेखन अक्षमता – लेखन अक्षमता का अभिप्राय लेखन में कमी। इसके निम्न रूप है।
    (1) डिसग्रेजिया
    (2) डिस्प्रैक्सिया
    (3) अग्रेफिया
    भावबोधक अक्षमता – भावबोधक अक्षमता का अभिप्राय बोलने व भाव व्यक्त करने में कमी।
    जैसे – तुतलाना, हकलाना
    अंकगणितीय अक्षमता – अंकगणितीय अक्षमता से अभिप्राय गणित में कुशलता न होना है।
    जैसे- वर्बल डिसकैल्कुलिया, ग्राफिकल डिस्कैकुलिया

इसे भी पढ़े

वृद्धि और विकास में अंतर

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here